Skip to main content

जीवित जड़ पुल

भारत के एक विशेष क्षेत्र में वहाँ के स्थानीय लोग जीवित  बृक्षों की जड़ो को अनुवर्धित कर इन्हें जलधारा के आर पार एक सुद्रण पुल में परिवर्तित कर देते हैं। जैसे जैसे वक्त होता जाता है ये पल और भी मजबूत होते जाते हैं। और ये अनोखे पुल मेघालय के चेरापूँजी, नोन ग्रेट,लात्संयू आदि स्थानों पर देखे जा सकते हैं। मेघालय के जनजातीय क्षेत्रों में रहने वाले लोग वहां उगने वाले बृक्षों की जड़ों और शाखाओं को एक दूसरे से सम्बद्ध कर पुल का रूप दे देते हैं। इस प्रकार के पुल ही जीवित जड़ पुल कहलाते हैं।

Comments

Popular posts from this blog

चैत्य एवं विहार

चैत्य विहार
कुछ शैल कृत बौद्ध गुफाओं को चैत्य कहते हैं। जबकि अन्य को विहार। दोनो में मूल अंतर यह है कि चैत्य पूजा स्थल होते हैं  जबकि विहार निवास स्थल होते हैं। चैत्य का शाब्दिक अर्थ होता है चिता सम्बन्धी।शवदाह के पश्चात बचे हुये अवशेषों को भूमि में गाड़कर जो समाधियाँ बनाई जाती हैं  उसे प्रारम्भ में चैत्य या स्तूप कहा गया। इन समधियों में महापुरुषो के धातु अवशेष सुरक्षित थे। अतः चैत्य उपासना के केंद्र बन गए। चैत्य के समीप ही भिक्षुओं को रहने के लिए आवास बनाये गए जिन्हें विहार कहते हैं।

त्रिभंग मुद्रा

"त्रिभंग मुद्रा " ओडिसी नृत्य से सम्बंधित है।जो कि उड़िसा का पारम्परिक नृत्य है। भरतीय इतिहास में नृत्य एवं नाट्य-कला की एक शारिरिक मुद्रा है। इसमे एक पैर मोड़ा जाता है और देह थोड़ी,किन्तु विपरीत दिशा में कटी और ग्रीवा पर वक्र बनाया जाता है। यह प्राचीन काल से ही भारत का लोकप्रिय नृत्य रहा है।

हरित भारत मिशन

राष्ट्रीय जलवायु परिवर्तन मिशन-2008 द्वारा घोषित किये गए आठ कार्यक्रमों मे हरित भारत मिशन एक कार्यक्रम है। परन्तु इसका संचालन वर्ष 2007 से किया जा रहा है। इसका मूल उद्देश्य वन अच्छादनकी पुनःप्राप्ति और संवर्धन करना तथा अनुकूलन एवम न्यूनीकरण के संयुक्त उपयो से जलवायु परिवर्तन का प्रत्युतर देना है।